You can enable/disable right clicking from Theme Options and customize this message too.
logo

Category : Inspirational Story

06 Jul 2019

संघर्ष करना सिखाइए

प्रेरणा दायक– बाज पक्षी जिसे हम ईगल या शाहीन भी कहते है। जिस उम्र में बाकी परिंदों के बच्चे चिचियाना सीखते है उस उम्र में एक मादा बाज अपने चूजे को पंजे में दबोच कर सबसे ऊंचा उड़ जाती है। पक्षियों की दुनिया में ऐसी Tough and tight training किसी भी ओर की नही होती। मादा बाज अपने चूजे को लेकर लगभग 12 Kms. ऊपर ले जाती है। जितने ऊपर अमूमन जहाज उड़ा करते हैं और वह दूरी तय करने […]

01 Jul 2019

हम कितने पापी है कैसे जाने

एक महात्मा थे। जीवन भर उन्होंने भजन ही किया था। उनकी कुटिया के सामने एक तालाब था। जब उनका शरीर छूटने का समय आया तो देखा कि एक बगुला मछली मार रहा है। उन्होंने बगुले को उड़ा दिया। इधर उनका शरीर छूटा तो नरक गये। उनके चेले को स्वप्न में दिखायी पड़ा; वे कह रहे थे- “बेटा! हमने जीवन भर कोई पाप नहीं किया, केवल बगुला उड़ा देने मात्र से नरक जाना पड़ा। तुम सावधान रहना।” जब शिष्य का भी […]

01 Jul 2019

माँ का उपहार

माँ का उपहार एक दंपती दीपावली की ख़रीदारी करने को हड़बड़ी में था। पति ने पत्नी से कहा, “ज़ल्दी करो, मेरे पास टाईम नहीं है।” कह कर कमरे से बाहर निकल गया। तभी बाहर लॉन में बैठी माँ पर उसकी नज़र पड़ी। कुछ सोचते हुए वापस कमरे में आया और अपनी पत्नी से बोला, “शालू, तुमने माँ से भी पूछा कि उनको दिवाली पर क्या चाहिए? शालिनी बोली, “नहीं पूछा। अब उनको इस उम्र में क्या चाहिए होगा यार, दो […]

30 Jun 2019

श्री राम और सबरी संबाद

💐💐 बहुत ही सुन्दर प्रसंग 💐💐 एकटक देर तक उस सुपुरुष को निहारते रहने के बाद बुजुर्ग भीलनी के मुह से बोल फूटे- कहो राम! सबरी की डीह ढूंढने में अधिक कष्ट तो नहीं हुआ? राम मुस्कुराए- यहां तो आना ही था अम्मा, कष्ट का क्या मूल्य… “जानते हो राम! तुम्हारी प्रतीक्षा तब से कर रही हूँ जब तुम जन्में भी नहीं थे। यह भी नहीं जानती थी कि तुम कौन हो? कैसे दिखते हो? क्यों आओगे मेरे पास..? बस […]

17 Feb 2018

समस्या का दूसरा पहलु [ज़िन्दगी बदलने वाली हिंदी कहानियां]

समस्या का दूसरा पहलु [ज़िन्दगी बदलने वाली हिंदी कहानियां] Second aspect of the problem [life changing stories] पिताजी कोई किताब पढने में व्यस्त थे , पर उनका बेटा बार-बार आता और उल्टे-सीधे सवाल पूछ कर उन्हें डिस्टर्ब कर देता . पिता के समझाने और डांटने का भी उस पर कोई असर नहीं पड़ता. तब उन्होंने सोचा कि अगर बच्चे को किसी और काम में उलझा दिया जाए तो बात बन सकती है. उन्होंने पास ही पड़ी एक पुरानी किताब उठाई […]

17 Feb 2018

सफलता की कुंजी-key to success

रेल सफ़र में भीख़ माँगने के दौरान एक भिख़ारी को एक सूट बूट पहने सेठ जी उसे दिखे। उसने सोचा कि यह व्यक्ति बहुत अमीर लगता है, इससे भीख़ माँगने पर यह मुझे जरूर अच्छे पैसे देगा। वह उस सेठ से भीख़ माँगने लगा। भिख़ारी को देखकर उस सेठ ने कहा, “तुम हमेशा मांगते ही हो, क्या कभी किसी को कुछ देते भी हो ?” भिख़ारी बोला, “साहब मैं तो भिख़ारी हूँ, हमेशा लोगों से मांगता ही रहता हूँ, मेरी […]

11 Feb 2018

गरीबी पर महापुरुषों के अनमोल वचन -Precious words of great men on poverty

गरीबी पर महापुरुषों के अनमोल वचन -Precious words of great men on poverty Poverty Quotes in Hindi कुबेर भी यदि आय से अधिक व्यय करे तो निर्धन हो जाता है” -चाणक्य गरीब वह नहीं है जिसके पास कम है, बल्कि धनवान होते हुए भी जिसकी इच्छा कम नहीं हुई है, वह सबसे गरीब है। – विनोबा भावे किसी भी प्रकार की गरीबी हमारा ईश्वर से उचित सम्बन्ध जोड़ देती है जब कि हर प्रकार की अमीरी, चाहे मन की हो […]

10 Feb 2018
चल छोड़ दे रोना तू जरा मुस्कुरा दे.

चल छोड़ दे रोना तू जरा मुस्कुरा दे – जिंदगी को आगे बढ़ने के लिए प्रेरणादायक कविता

परेशानियाँ किसके जीवन में नहीं आती? सबके जीवन में आती हैं, सब परेशान होते हैं। कुछ लोग इसके लिए तैयार रहते हैं और इसका सामना कर अपनी उदास-बेरंग दुनिया में खुशियों के रंग भर देते हैं। वहीं कुछ लोग ऐसी परिस्थितियों में हौसला छोड़ देते हैं और अपनी हालत को किस्मत के भरोसे छोड़ देते हैं। उन्हें लगता है कि वो हार गए हैं लेकिन हार उनकी नहीं होती जो किसी कराया में असफल हो जाएँ। हारते तो वो लोग […]

09 Feb 2018

तुमने देवता ही गलत चुना-कटाक्ष

वो नेता जिसकी टोपी लेकर तुम करप्शन खत्म करने और लोकपाल लाने के लिए निकले थे, वो आज मुख्यमंत्री है, तुम आज भी ट्रैफिक वालों से पेनाल्टी को लेकर रिरिया रहे हो, तुम लोकपाल को भूल चुके हो और वो भी..!! वो बंदा जिसमे तुमको देश बदलने की उम्मीदें दिखती हैं, हर जगह तुम उसे डिफेंड करते हुए चलते हो, उसने पॉलिटिक्स को बहुत करीब से देखा है जिया है, फिर भी कुछ नहीं सीखा, उसकी पिछली पांच पीढियां सत्ता […]

08 Feb 2018
लाख दलदल हो, पाँव जमाए रखिये; हाथ खाली ही सही, ऊपर उठाये रखिये; कौन कहता है छलनी में, पानी रुक नहीं सकता; बर्फ बनने तक, हौसला बनाये रखिये।

लाख दलदल हो,
पाँव जमाए रखिये;

हाथ खाली ही सही,
ऊपर उठाये रखिये;

कौन कहता है छलनी में,
पानी रुक नहीं सकता;

बर्फ बनने तक,
हौसला बनाये रखिये।

Contact PersonWhatsApp us