You can enable/disable right clicking from Theme Options and customize this message too.
logo

vicharak

06 Jul 2019

How to Teach Children Conflict Resolution Skills

How to Teach Children Conflict Resolution Skills Conflict resolution skills can be significantly important to a child’s well-being and self-confidence. These conflict resolution skills are not something one is born with. We must teach our children how to resolve their differences with others so their life will be fulfilling and harmonious. The easiest way to teach these social skills begins when your child is very young. Guide your child through resolution with another child; this modeling will speak louder than […]

06 Jul 2019

संघर्ष करना सिखाइए

प्रेरणा दायक– बाज पक्षी जिसे हम ईगल या शाहीन भी कहते है। जिस उम्र में बाकी परिंदों के बच्चे चिचियाना सीखते है उस उम्र में एक मादा बाज अपने चूजे को पंजे में दबोच कर सबसे ऊंचा उड़ जाती है। पक्षियों की दुनिया में ऐसी Tough and tight training किसी भी ओर की नही होती। मादा बाज अपने चूजे को लेकर लगभग 12 Kms. ऊपर ले जाती है। जितने ऊपर अमूमन जहाज उड़ा करते हैं और वह दूरी तय करने […]

01 Jul 2019

सनातन धर्म की प्रमुख मान्यताएँ

सनातन धर्म की प्रमुख मान्यताएँ 👇👇 दो लिंग : नर और नारी । दो पक्ष : शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष। दो पूजा : वैदिकी और तांत्रिकी (पुराणोक्त)। दो अयन : उत्तरायन और दक्षिणायन। तीन देव : ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। तीन देवियाँ : महा सरस्वती, महा लक्ष्मी, महा गौरी। तीन लोक : पृथ्वी, आकाश, पाताल। तीन गुण : सत्वगुण, रजोगुण, तमोगुण। तीन स्थिति : ठोस, द्रव, वायु। तीन स्तर : प्रारंभ, मध्य, अंत। तीन पड़ाव : बचपन, जवानी, बुढ़ापा। तीन […]

01 Jul 2019

हम कितने पापी है कैसे जाने

एक महात्मा थे। जीवन भर उन्होंने भजन ही किया था। उनकी कुटिया के सामने एक तालाब था। जब उनका शरीर छूटने का समय आया तो देखा कि एक बगुला मछली मार रहा है। उन्होंने बगुले को उड़ा दिया। इधर उनका शरीर छूटा तो नरक गये। उनके चेले को स्वप्न में दिखायी पड़ा; वे कह रहे थे- “बेटा! हमने जीवन भर कोई पाप नहीं किया, केवल बगुला उड़ा देने मात्र से नरक जाना पड़ा। तुम सावधान रहना।” जब शिष्य का भी […]

01 Jul 2019

माँ का उपहार

माँ का उपहार एक दंपती दीपावली की ख़रीदारी करने को हड़बड़ी में था। पति ने पत्नी से कहा, “ज़ल्दी करो, मेरे पास टाईम नहीं है।” कह कर कमरे से बाहर निकल गया। तभी बाहर लॉन में बैठी माँ पर उसकी नज़र पड़ी। कुछ सोचते हुए वापस कमरे में आया और अपनी पत्नी से बोला, “शालू, तुमने माँ से भी पूछा कि उनको दिवाली पर क्या चाहिए? शालिनी बोली, “नहीं पूछा। अब उनको इस उम्र में क्या चाहिए होगा यार, दो […]

30 Jun 2019

श्री राम और सबरी संबाद

💐💐 बहुत ही सुन्दर प्रसंग 💐💐 एकटक देर तक उस सुपुरुष को निहारते रहने के बाद बुजुर्ग भीलनी के मुह से बोल फूटे- कहो राम! सबरी की डीह ढूंढने में अधिक कष्ट तो नहीं हुआ? राम मुस्कुराए- यहां तो आना ही था अम्मा, कष्ट का क्या मूल्य… “जानते हो राम! तुम्हारी प्रतीक्षा तब से कर रही हूँ जब तुम जन्में भी नहीं थे। यह भी नहीं जानती थी कि तुम कौन हो? कैसे दिखते हो? क्यों आओगे मेरे पास..? बस […]

21 Jul 2018
21 Jul 2018

स्वयं विचार करें

संत महापुरुष कहते है जब आप बस या ट्रेन में बिना टिकट सफर कर रहे होते हो तो कितना डर चिंता घबराहट हो रही होती है कहीं कोई टिकट चैक करने वाला ना आ जाये सारा सफ़र चिंता और बेचैनी में ही बीत जाता है। जो टिकट ले के सफर कर रहा होता है, वो खुशी-खुशी सफर कर रहा होता है। उसे कोई चिंता कोई घबराहट कोई परेशानी नही होती, उसका सारा सफर खुशी- खुशी बीत जाता है। टिकट क्या […]

18 Mar 2018

हम क्यों दुखी हैं? -Why We Are Unhappy

हम क्यों दुखी हैं? Reasons Why We Are unhappy नमस्कार दोस्तों आज फिर से हाजिर हु एक नए विचार(vichar) के साथ कि आखिर हम दुखी क्यों है – why we are unhappy? ऐसे बहुत से सवाल हमारे दिमांग में आते रहते है हमारे चारो तरफ लगता है की इस दुनिया (World) मे सिर्फ दुख ही दुख है। अजीब है लेकिन सत्य है की गरीबो इसलिए दुखी है की उसके पास धन नहीं है । अमीरों से पूछो तो वो कहता […]

17 Feb 2018

समस्या का दूसरा पहलु [ज़िन्दगी बदलने वाली हिंदी कहानियां]

समस्या का दूसरा पहलु [ज़िन्दगी बदलने वाली हिंदी कहानियां] Second aspect of the problem [life changing stories] पिताजी कोई किताब पढने में व्यस्त थे , पर उनका बेटा बार-बार आता और उल्टे-सीधे सवाल पूछ कर उन्हें डिस्टर्ब कर देता . पिता के समझाने और डांटने का भी उस पर कोई असर नहीं पड़ता. तब उन्होंने सोचा कि अगर बच्चे को किसी और काम में उलझा दिया जाए तो बात बन सकती है. उन्होंने पास ही पड़ी एक पुरानी किताब उठाई […]