You can enable/disable right clicking from Theme Options and customize this message too.
logo
logo

vicharak

18 Mar 2018

हम क्यों दुखी हैं? -Why We Are Unhappy

हम क्यों दुखी हैं? Reasons Why We Are unhappy नमस्कार दोस्तों आज फिर से हाजिर हु एक नए विचार(vichar) के साथ कि आखिर हम दुखी क्यों है – why we are unhappy? ऐसे बहुत से सवाल हमारे दिमांग में आते रहते है हमारे चारो तरफ लगता है की इस दुनिया (World) मे सिर्फ दुख ही दुख है। अजीब है लेकिन सत्य है की गरीबो इसलिए दुखी है की उसके पास धन नहीं है । अमीरों से पूछो तो वो कहता […]

12 Jan 2020

क्या ईस्वर कायर है

पेरियार द्वारा पूछे गए ईश्वर पे प्रश्नों के उत्तर — 1. क्या तुम कायर हो जो हमेशा छिपे रहते हो, कभी किसी के सामने नहीं आते? 2. क्या तुम खुशामद परस्त हो जो लोगों से दिन रात पूजा, अर्चना करवाते हो? 3. क्या तुम हमेशा भूखे रहते हो जो लोगों से मिठाई, दूध, घी आदि लेते रहते हो ? 4. क्या तुम मांसाहारी हो जो लोगों से निर्बल पशुओं की बलि मांगते हो? 5. क्या तुम सोने के व्यापारी हो […]

12 Jan 2020

रगों में रक्त की फिर से रवानी चाहिए

जय हिंद🙏 जो रगों में रक्त की फिर से रवानी चाहिए। तो शहीदों की कहानी गुनगुनानी चाहिए। निश्चरों के वासते श्री राम काफी हैं मग़र, ताड़काओं के लिए माता भवानी चाहिए। चेक दंगाई को देकर एक नेता ने कहा, देश जाए भाड़ में पर वोट हमको ही आनी चाहिए। झुंड स्वानो का इकठ्ठा होके भौंका, तो लगा कह रहे हों के उन्हें भी राजधानी चाहिए। जाफरों की मौजी फिर से बढ़ रही तादाद है, वंदे-मातरम की ताकतें सड़कों पे आनी […]

12 Jan 2020

राजा वीर विक्रमादित्य

कौन थे राजा वीर विक्रमादित्य….. ? बड़े ही शर्म की बात है कि महाराजा विक्रमादित्य के बारे में देश को लगभग शून्य बराबर ज्ञान है, जिन्होंने भारत को सोने की चिड़िया बनाया था, और स्वर्णिम काल लाया था उज्जैन के राजा थे गन्धर्वसैन , जिनके तीन संताने थी , सबसे बड़ी लड़की थी मैनावती , उससे छोटा लड़का भृतहरि और सबसे छोटा वीर विक्रमादित्य बहन मैनावती की शादी धारानगरी के राजा पदमसैन के साथ कर दी , जिनके एक लड़का […]

12 Jan 2020

यशवंती नाम था उसका

हाँ, ‘यशवंती’ नाम था उसका.. यशवंती.. नाम में ही यश है। कोंढाणा को हिंदवी स्वराज्य में फिर से जोड़ने वाली एक कड़ी थी यशवंती। यशवंती.. तानाजी मालुसरे की लाड़ली ‘गोह’ का नाम था। गोह क्या, बिटिया सी प्यारी थी। गढ़ चढ़कर अपने मजबूत नाखून पथरीली दीवारों में रोपती। उसकी पीठ पर बंधी रस्सी के सहारे कोई वजन में हल्का मावळा सरपट गढ़ चढ़ जाता और साथियों के लिए डोर बांध देता और फिर गढ़ पर रणचंडी जो हुंकार भरती.. कि […]

05 Jan 2020

वीर बालक पृथ्वी सिंह

मित्रों भारत वीरो की जन्म भूमि कहलाता हे , यहाँ सैकड़ो वीर पुरुष हुवे जिन्होंने अपनी वीरता हे इतिहास में अपना नाम अमर किया हे , जब जब वीरो का नाम आता हे तो राजस्थान का नाम सबसे उपर आता हे ! राजस्थान में कुछ ऐसे भी वीर हुवे हे जिनको इतिहास में शायद वो स्थान प्राप्त नहीं हुवा जिनके वो हक़दार थे आज हम आपको एक ऐसे ही वीर बालक पृथ्वी सिंह की वीरता और शौर्य की गाथा सुनाने […]

05 Jan 2020

क्या है गुलाम ऐ मुस्तफा

#गुलाम_ए_मुस्तफ़ा ? अहमदिया मुस्लिम ज़मात के संस्थापक मिर्ज़ा गुलाम अहमद कादियानी ने खुद को पहले नबी घोषित किया फिर कहा कि हिन्दू और बौद्ध ग्रंथों में वर्णित कल्कि अवतार और अमिताभ मैत्रेय भी मैं ही हूँ। हौसला बढ़ा तो आगे जाकर ये भी कह दिया कि जिस जीसस के दुबारा आने की बात बाईबल में है वो भी मैं ही हूँ। खुद को नबी, अवतार बताने के दावे करने वाले तो कुकुरमुत्ते की तरह रोज़ पैदा होते रहतें हैं इसलिये […]

09 Dec 2019

मेहरानगढ़ दुर्ग- इतिहास जो भुलाया गया

#मेहरानगढ़ पनरा सो पनरौत्तरे जेठ मास में जाण सुद ग्यारस शनिवार ने मंडियो गढ़ मेहरान …. मारवाड़ और मारवाड़ियों का ज़िक्र अगर कहीं हो और वहां जोधपुर का ज़िक्र ना हो ये असम्भव है …. मारवाड़ की प्रथम राजधानी थी मंडोर …. मंडोर को मारवाड़ की राजधानी राव चूड़ा राठौड़ द्वारा बनाया गया था …. राव जोधा द्वारा जब मारवाड़ पे पुनः अपना आधिपत्य स्थापित किया गया तो उन्होंने सर्वप्रथम मारवाड़ की राजधानी बदलने की सोची …. मंडोर के निकट […]

07 Dec 2019

ब्रह्मास्त्र किस मंत्र से चलता था?

ब्रह्मास्त्र किस मंत्र से चलता था।? ब्रह्मास्त्र धर्म और सत्य (सत्य) को बनाए रखने के उद्देश्य से निर्माता ब्रह्मा द्वारा बनाया गया एक हथियार था। जब ब्रह्मास्त्र का निर्वहन किया गया, तब न तो कोई प्रतिवाद था और न ही कोई रक्षा जो इसे रोक सकती थी, ब्रह्मदण्ड को छोड़कर, ब्रह्मा द्वारा बनाई गई एक छड़ी भी। ब्रह्मास्त्र गायत्री मंत्र द्वारा जारी किया गया है लेकिन एक अलग तरीके से। किसी भी हथियार या घास के तिनके को भी गायत्री […]

07 Dec 2019

ब्रह्मास्त्र की मारक क्षमता क्या थी और वह कितना शक्तिशाली था?

ब्रह्मास्त्र की मारक क्षमता क्या थी और वह कितना शक्तिशाली था? महर्षि वेदव्यास लिखते हैं कि जहां ब्रह्मास्त्र छोड़ा जाता है वहां 12 वर्षों तक जीव-जंतु, पेड़-पौधे आदि की उत्पत्ति नहीं हो पाती। महाभारत में उल्लेख मिलता है कि ब्रह्मास्त्र के कारण गांव में रहने वाली स्त्रियों के गर्भ मारे गए। गौरतलब है कि हिरोशिमा में रेडिएशन फॉल आउट होने के कारण गर्भ मारे गए थे और उस इलाके में 12 वर्ष तक अकाल रहा। सिन्धु घाटी सभ्यता (मोहन जोदड़ो, […]

07 Dec 2019

ब्रह्मास्त्र से भी अधिक शक्तिशाली अस्त्र कौन से थे?

ब्रह्मास्त्र से भी अधिक शक्तिशाली अस्त्र कौन से थे? 1 – ब्रह्मशीर अस्त्र महाभारत के अनुसार, अश्वत्थामा और अर्जुन ने इस हथियार का इस्तेमाल किया था। ऐसा माना जाता है कि ब्रह्मशीर अस्त्र ब्रह्मास्त्र का विकसित रूप है, और दुश्मन का सफाया करने के लिए उल्काओं की बौछार करता है। यह हथियार भगवान ब्रह्मा के चार सिरों को अपनी नोक के रूप में प्रकट करता है। ऋषि अग्निवेश, द्रोण, अर्जुन और अश्वत्थामा के पास इस हथियार को रखने का ज्ञान […]